Paseene ke kaaran aur upachaar -Causes and treatment of perspiration

Paseene ke kaaran aur upachaar -Causes and treatment of perspiration

पसीने से बदबू आने का मुख्य कारण हमारी त्वचा होती हैं. हमारी त्वचा पर ऑयल पैदा करने वाली कई तरह की ग्रंथियां पाई जाती है जिनमें से हमारे शरीर को ठंडा रखने के लिए नमकीन पानी निकलता रहता है जिसे हम पसीना कहते हैं. ज्यादातर पसीना दिमाग में स्ट्रेस या शरीर में गर्मी बढ़ने की वजह से निकलता है ताकि शरीर को दोबारा ठंडा बनाया जा सके.

Paseene ke kaaran aur upachaar -Causes and treatment of perspiration

पानी की ही तरह हमारे पसीने की भी कोई गंध नहीं होती है. शरीर के अंदर और बाहर दोनों ही वातावरण में तरह तरह के बैक्टीरिया होते हैं जिन्हें हम अपनी आंखों से देख नहीं सकते कुछ बैक्टीरिया हमारे लिए हानिकारक होते हैं और कुछ हमें स्वस्थ बनाए रखने के लिए बहुत जरूरी भी होते हैं. हमारी त्वचा जीवन भर अच्छे और बुरे दोनों तरह के बैक्टीरिया से प्रभावित होती रहती है. जब पसीना हमारे शरीर से बाहर निकलता है तब skin par मौजूद बैक्टीरिया पसीने में मौजूद कंपाउंड को खाने लगते हैं और खुद के अंदर से एक बदबू पैदा करने लगते हैं. गर्म और बंद शरीर का भाग बैक्टीरिया की सबसे पसंदीदा जगह होती है इसलिये ऐसी जगह से निकलने वाले पसीने की गंध बहुत तेज होती हैं.

पसीने की बदबू से कैसे छुटकारा पाया जाए ?

घरेलु नुस्खों के जरिए आसानी से पसीने की दुर्गन्ध को दुर किया जा सकता है.

पहला नुस्खा है:

इसे बनाने के लिए पांच से छह चम्मच लगभग आधा कटोरी नींबू के रस में आधा कटोरी गुलाब जल मिलाकर अच्छे से मिक्स कर ले उसके बाद इसे किसी प्लास्टिक के जार या फिर फ्री बोतल में भरकर रख लें रोजाना नहाने के बाद इसे अपने शरीर की उस जगह पर लगाएं जहां पर आप को पसीना ज्यादा आता है नींबू के रस में एंटी बैक्टिरियल प्रॉपर्टी पाई जाती हैं. जो पसीने मै बदबू पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए ज्यादा फायदेमंद होती है नींबू और गुलाब जल के इस मिश्रण का इस्तेमाल आप अपनी त्वचा अपने कपड़ों अपने जूतों पर भी कर सकते हैं.

जूतों को हम लंबे समय तक धोते नही और पसीने की वजह से बदबू पैदा करने वाले बैकटिरिया हमारी जूतों में लगातार बढ़ते जाते हैं समय के साथ-साथ हमारी जूतों में से आने वाली बदबू बढ़ते जाती है कपड़े पहनने से पहले उतारने के बाद तैयार मिश्रण का स्प्रे करने से बैकटिरिय पैदा होने की समस्या खत्म हो जाती है अगर आप अपनी त्वचा पर इस्तेमाल करते हैं धीरे-धीरे आप महसूस करेंगे कि आप आपके शरीर में पहले के मुकाबले पसीना कम होने लगेगा और साथ ही यह कालेपन को दूर करके त्वचा को साफ भी बनाता है.

नुस्खा नम्बर दो:

इसे बनाने के लिऐ आवश्यक सामग्री है बेसन, बेकिंग सोडा और पानी. 50 ग्राम बेसन में 50 ग्राम बेकिंग सोडा मिलाकर इसे किसी कांच या प्लास्टिक के जार में भरकर रख लें उसके बाद रोजाना नहाने से पहले तीन से चार चम्मच मिश्रण में थोड़ा सा पानी मिलाकर इसका पेस्ट तैयार कर लें अब इस पेस्ट को अपने शरीर पर लगाएं जहां पर आपको ज्यादा पसीना ज्यादा बदबू आती है 5 से 10 मिनट लगा रहने देने के बाद नार्मल पानी से धो लें बेकिंग सोडा हमारी त्वचा ph level को बैलेंस करता है जिससे कि हमारी त्वचा में ठंडक बनी रहती है और पसीना भी कम आता हैं.

लगातार इस्तेमाल से त्वचा में सूखा पड़ना खत्म होता हैं और बदबु पैदा करने वाले बैकटिरिया भी खत्म होते हैं. अगर आपके पैरों से ज्यादा बदबू आती है तो अपने पैरों को रोजाना कम से कम 10 मिनट के लिए पानी और बेकिंग सोडे के मिश्रण में डुबा के रखें धीरे-धीरे आप देखेंगे कि पैरों से आने वाली बदबु पूरी तरह खत्म हो जाएगी.

हरी सब्जियों में क्लोरोफिल की मात्रा सबसे ज्यादा होती है आपने देखा होगा कुछ लोगों को चाहे जितना भी पसीना आ जाए उनके शरीर से कभी भी बदबू नहीं आती है और कुछ लोगों को सिर्फ थोड़ा सा पसीना आने पर ही तेज बदबू आना शुरू हो जाती है यह चीज एक व्यक्ति के खानपान पर निर्भर करती है हमारे शरीर में क्लोरोफिल की मात्रा बढ़ाने के लिए हरी सब्जियां सबसे बेहतर मानी जाती है अगर आप रोजाना सुबह नाश्ते के साथ सिर्फ तीन से चार चम्मच व्हीटग्रास जूस अथवा ज्वार का जूस का सेवन करते हैं तो चाहे आप का कितना भी पसीना निकले कभी भी शरीर से बदबू नहीं आयेगी.

सावधानियां :

लेकिन कुछ गलतियों की वजह से ही चाहे आप जितना भी प्रयास क्यो न कर ले पसीने से आने वाली बदबू आपका पीछा कभी नहीं छोड़ती थी. हमारा खान-पान और डाइट भी हमारे शरीर से आने वाली स्मेल को काफी प्रभावित करती है ऐसे फल और सब्जियां जिनमें सल्फर की मात्रा अधिक हो जैसे मूली प्याज गोभीया लहसुन और ड्राई फ्रूट का सेवन करने से शरीर से आने वाली बदबू को और ज्यादा तेज बना देती है. खासकर गर्मियों में ऐसी चीजें ज्यादा से ज्यादा हरि सब्जियों का सेवन करें.

अंडे और मांस का सेवन करने से भी पसीने में बदबु पैदा करने वाले बैकटिरिया बढ़ते हैं जो पुरुष बैजेटेरियन होते हैं उनके शरीर से आने वाली स्मैल बहुत कम होती हैं जिसे महिलाओं को ज्यादा पसंद होती है. यही चीज महिलाओं पर भी लागू होती है।

आप एक ही कपड़े को बार-बार बीना धोए पहनते हैं तो कम से कम गर्मियों के दिनों में ऐसा बिल्कुल ना करें क्योंकि शरीर में मौजूद बैक्टीरिया कपड़ों में भी रह जाते हैं जिनसे आने वाली बदबू और ज्यादा बढ़ जाती है. टावेल को भी रोजाना मुंह पोछने के बाद धूप में जरूर सुखाए और एक दो दिन के अन्तर पर उसे धोते रहे.

Related posts

Leave a Comment