Rameshwaram jyotirlinga story – रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग धाम

Rameshwaram jyotirlinga story

रामेश्वर ज्योतिर्लिंग जब रावण सीता जी को हरण कर ले गया तब सुग्रीव और श्री राम वानरों के साथ सागर के किनारे चिंतित हो सागर पार करने हेतू विचार करने लगे हम समुद्र को कैसे पार करेंगे और किस प्रकार लंका को जीतेंगे उतने में ही श्री राम को प्यास लगी उन्होंने पीने हेतू जल मगाया श्रीराम ने प्रसन्न होकर जैसे ही जल लिया उन्हें स्मरण हो आया मैंने अपनी स्वामी भगवान शंकर का दर्शन किया ही नहीं ऐसा कह कर उन्होंने ऋषि पुरोहित को बुलवाया और विधि पूर्वक शिवजी की भक्ति भाव से प्रार्थना की.

Rameshwaram jyotirlinga story

श्री राम जी ने तत्पश्चात भगवान शिव को नमन किया और उनके समक्ष कीर्तन इत्यादि किया जिससे भगवान शंकर बहुत प्रसन्न हुए और महेश्वर शिव देवी पार्वती तथा पार्षद गणों के साथ तत्काल वहां प्रकट हो गए गये श्री राम की भक्ति से संतुष्ट होकर महेश्वर ने कहा श्री राम वर मांगो. धर्म परायण श्री राम जी ने स्वयं उनका पूजन किया फिर भांति ही भांति की स्तुति की एवं प्रणाम करके उन्होंने भगवान शिव से लंका पर रावण के साथ होने वाले युद्ध में विजय की प्रार्थना की. शिव जी ने कहा श्री राम आप की जय हो भगवान शिव के दिए हुए विजय सूचक वर एवं युद्ध की आज्ञा को पाकर श्रीराम ने नतमस्तक हो हाथ जोड़कर प्रार्थना की श्री राम बोले मेरे स्वामी शंकर यदि आप संतुष्ट हैं तो जगत के लोगों को पवित्र करने तथा दूसरों की भलाई करने के लिए सदा यहां निवास करें श्रीराम के ऐसा कहने पर भगवान शिव के रूप में स्थित हो गए तीनों लोकों में रामेश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए उनके प्रभाव से ही अपार समुद्र को पार करके श्री राम ने रावण आदि राक्षसों का संहार किया और अपनी प्रिय सीता प्राप्त कर लिया.

इस भूतल पर रामेश्वर की अद्भुत महिमा का प्रसार हुआ भगवान रामेश्वर राम ईश्वर सदा भोग और मोक्ष देने वाले तथा भक्तों की इच्छा पूर्ण करने वाले हैं जो दिव्य गंगाजल से रामेश्वर शिव को भक्ति पूर्वक प्रार्थना कराता है वह इस संसार में उत्तम में उत्तम ज्ञान पाकर वह निश्चय ही मोक्ष को प्राप्त कर लेता है.

Related posts

Leave a Comment