Chaitra Navratri 2021 Date – Navratri Kab Shuru Hai

Chaitra Navratri 2021 Date

चैत्र नवरात्रि 2021 में कब शुरू होगी और कब समाप्त होंगे ?

और कलश स्थापना करने का शुभ मुहूर्त क्या रहेगा ?

नवरात्र को हिंदू धर्म के प्रमुख पर्वो में से एक माना जाता है जिसे पूरे देश में बहुत ही श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाया जाता है. साल में चार नवरात्रि होते हैं जिनमें से दो गुप्त नवरात्र और तीसरे चैत्र नवरात्र तथा चौथा नवरात्र शारदी नवरात्र होता है. नौ रूपों वाला यह पर्व मां दुर्गा और उनके नौ स्वरूपों को समर्पित है ।

Chaitra Navratri 2021 Date

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से ही हिंदू नव वर्ष की शुरुआत हो जाती है। श्री ब्रह्मा जी ने सृष्टि निर्माण की शुरुआत चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से ही की थी इसलिए इसे नव वर्ष के रूप में भी जाना जाता है ।

चैत नवरात्र को सबसे पहला और बडा नवरात्र कहते हैं । नवरात्रि में पूजा पाठ करने से साल भर ग्रहों की स्थिति अनुकूल रहती है और घर में धन-धान्य की कभी कमी नहीं रहती है ।

नवरात्र में पूजा पाठ करने से जीवन में धन वैभव, यश मान, सम्मान प्रतिष्ठा और बुद्धि विवेक की प्राप्ति होती है। नवरात्र में घट स्थापना का भी विशेष महत्व होता है। नवरात्र की शुरुआत में ही घट यानी की कलश स्थापना की जाती है । कलश की स्थापना शुभ मुहूर्त में ही करनी चाहिए। नवरात्र में कलश स्थापना करने से घर में सुख समृद्धि और ऐश्वर्य की वृद्धि होती है । नवरात्र के दौरान कलश की स्थापना करना मंगलकारी माना जाता है ऐसा माना जाता है कि कलश के मुख में भगवान विष्णु जी का और गले में रुद्र का तथा मूल में ब्रह्मा जी और मध्य में देवी शक्ति जी निवास करती हैं।

साल 2021 में चैत्र नवरात्रि कब शुरू होगी और कब समाप्त होगी ?

चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 13 अप्रैल 2021 दिन मंगलवार से हो जाएगी और चैत्र नवरात्र की समाप्ति 22 अप्रैल 2021 दिन गुरुवार को होगी और कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त 13 अप्रैल को सुबह 6:02 से लेकर सुबह 10:15 तक रहेगा और अभिजीत मुहूर्त 13 अप्रैल की सुबह 11:57 से दोपहर 12:45 तक रहेगा और प्रतिपदा तिथि की शुरुआत 12 अप्रैल 2021 की सुबह 8:00 बजे हो जाएगी और प्रतिपदा तिथि की समाप्ति 13 अप्रैल 2021 की सुबह 10:16 तक रहेगी ।

13 अप्रैल 2021 दिन मंगलवार को प्रतिपदा तिथि रहेगी इस दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाएगी और साथ ही साथ कलश स्थापना की जाएगी 14 अप्रैल 2021बुधवार को द्वितीय तिथि में मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाएगी 15 अप्रैल 2021 दिन गुरुवार को तृतीया तिथि रहेगी और इस दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होगी 16 अप्रैल 2021 दिन शुक्रवार को चतुर्थी तिथि में मां कूष्मांडा की पूजा विधि विधान से करें 17 अप्रैल 2021 दिन शनिवार को स्कंदमाता की पूजा की जाएगी 18 अप्रैल 2021 दिन रविवार को स्थिति रहेगी और इस दिन मां कात्यायनी की पूजा-अर्चना की जाएगी 19 अप्रैल 2021 दिन सोमवार को सप्तमी तिथि में मां कालरात्रि की पूजा करें 20 अप्रैल 2021 दिन मंगलवार को अष्टमी तिथि में मां महागौरी की पूजा की जाएगी और इसी दिन कन्या पूजन और दुर्गा अष्टमी का पर्व मनाया जाएगा 21 अप्रैल 2021 दिन बुधवार को नवमी तिथि में मां सिद्ध धात्री की पूजा की जाएगी और साथ ही साथ इस दिन राम नवमी का पर्व मनाया जाएगा 22 अप्रैल 2021 दिन गुरुवार को ही दशमी तिथि रहेगी इस दिन व्रत के पारण के साथ विसर्जन किया जाएगा.

Related posts

Leave a Comment