what is shivling in hindi – shivling meaning – शिवलिंग का क्या अर्थ हैं

Shivling meaning
शिवलिंग क्या है?
आज के जमाने में हमें ऐसा शिवलिंग कहीं नहीं देखने को मिलेगा इसे शिव पुराण के हिसाब द्वारा डिजाइन किया गया है इसे एक विशेश प्रकर् की लकड़ी से बनाया गया है ,  शिव लिंग सृष्टि का प्रतीक है. पृथ्वी के आरंभ काल के दौरान जब भगवान शिव अवतार लेकर धरती पर सृष्टि करने आए थे तो उस कार्य के समाप्त होने के पश्चात कुछ ऋषि उनके पास विनती करते हुए गए और कहा कि शिव से जुड़े कुछ वस्तुओ की जरूरत है जिन्हें वह शिव मान कर पूजा कर सकें इसके उत्तर में Lord Shiva ने कहा था कि मुझे नहीं मेरे कर्म यानी कि मेरे काम की पूजा करो और यह उसी का कांसेप्ट है वर्क इस वरशिप हम सभी को यह गलतफहमी है कि भगवान शिव की शिवलिंग है जबकि उनकी बनाएगा सृष्टि का प्रतिरूप है

shivling-meaning

आइए जानते हैं इस शिवलिंग के बारे में शिवलिंग के तीन भाग हैं नंदेया वर्ते शिले कहा जाता है
यह पुरुष भाग कहलाता है इसे सृष्टि -स्थिति और लया कहा जाता है सृष्टि यानी की हमारे चतुर्मुख ब्रह्मा इसलिए चौमुखी है इसके ऊपर स्थिति यानी कि हमारे भगवान विष्णु भगवान विष्णु को अष्टक्षरी कहा जाता है अष्टक्षरी विष्णु कहा जाता है इसलिए ओम नमो नारायणाय यहां भी अष्ट मुखी है, इस्के उपर लया यानी कि हमारे भगवान का कोई सीमा नहीं है अनलिमिटेड कहा जा सकता है सुन्य कहा जा सकता है असिमीत कहा जा सकता है कुछ भी कहा जा सकता है हमारी ब्रह्मा भाग के नीचे नवरत्नों को बिठाया जाता है

what is shivling in hindi - shivling meaning - शिवलिंग का क्या अर्थ हैं
Image Source – Google image by The power of mantra

फिर शास्त्र के हिसाब से ब्रह्मा को नंदेया वर्ते शिले के ऊपर स्थापित किया जाता है फिर आता है हमारे सृष्टि का दूसरा भाग स्त्री भाग के नाम से जाना जाता है और पार्वती भाग को पुरुषों के ऊपर स्थापित किया जाता है शिवलिंग के ऊपर श्री चक्र को बनाया गया है

और ऐसे ही स्त्री और पुरुष के संग द्वारा यह शिवलिंग परिपूर्ण होता है इसे जो भी प्रार्थना करता है उन सभी को सभी वेदों का ज्ञान प्राप्त होता है इसलिए हमारे देवआलय किसी भी विद्यालय से कम नहीं हमारी देवस्थान अभी समझाते हैं कि भगवान हर जगह मौजूद है और वह खुद ही नहीं जानते ऐसी जगह जहां पर वह मौजूद नहीं है ऐसा कहीं भी नहीं कहा गया है कि सिर्फ पुरोहित भगवान का स्पर्श कर सकते हैं सभी भगवान का स्पष्ट कर सकते हैं कि भगवान भेद नहीं समझते, यही आकर है यही विकर है यही शुभ है और यही अशुद्ध है .

Related posts

Leave a Comment